मेरी लुगाई तेरी लुगाई "तेरी लुगाई मेरी लुगाई | Hindi Sex Stories

मेरी लुगाई तेरी लुगाई "तेरी लुगाई मेरी लुगाई

Discussion in 'Hindi Sex Stories' started by sexstories, Dec 1, 2023.

  1. sexstories

    sexstories Administrator Staff Member

    दोस्तों में "सोफिया आलम नकवी "फिर से हाजिर हू अपने गुनाहो की माफ़ी मांगने आप की बारगाह में सर निगू .


    में आप और मयखाना -सब से पहले सभी लेखकों गुरुजनों को नमन करती हू, आशीर्वाद चाहती हू ,

    दोस्तों जैसा के आप सब जानते है, में पाठको से और लेखकों से चैट करती रहती हू,
    इस चैट से मुझे जो अनुभब प्राप्त होते है उन अनुभबों को अपनी कहानियों के दुवारा आप लोगो से शेयर करती हू.
    में आप सभी लेखकों और पाठको की आभारी हू जो आप लोग मेरे साथ चैट करते हो अपनी फिलिग्स शेयर करते हो. साथ ही मेरी टूटी फूटी अंग्रेजी बड़े सब्ब्र से झेलते हो.

    आज में जो कहानी आप को सुनाने जा रही हू बो मेरे पांच अलग अलग चैट फ्रेंड्स के साथ घटी सच्ची घटनायें है ,उन पाँचो लोगो के साथ जो जो घटित हुआ उस सबको मिला कर मेने केबल जोर का तड़का लगाया है, और ऊपर से अपने सूफियाना कातिलाना अंदाज का गरम मसाला डाला है.

    वाइफ स्वैप का चलन इंडिया के माध्यम बर्ग में तेज़ी से बड़ रहा है ,यह कहानी का बेस 'वाइफ स्वैप' ही है लेकिन जरा हट के जरा खुल के.

    "मेरी लुगाई तेरी लुगाई "तेरी लुगाई मेरी लुगाई "


    hello

    hi

    als

    34 ,36 delhi u

    28 24 delhi too

    wat u like ?

    full swap

    any exp ?

    no we r new and u ?

    yes we hav some

    हिंदी में बात करे

    हा जरूर
    नमस्ते
    नमस्ते

    आप कैसे हो

    अच्छा हु आप कैसे हो

    किरपा हे आप की और भाभी जी कैसी है

    वो भी मज़े में है

    पास बैठी है आप के क्या

    नहीं किचिन में है और आप की वाइफ कहा है

    बच्चो को सुला रही है आप के कितने बच्चे है

    भी कोई बच्चा नहीं है हमारी शादी को बस दो साल ही हुए है

    वीडियो कॉल पर बात करे जब आप दोनों साथ हो

    अभी तो मुश्किल है कल टॉय करते है

    ठीक है जैसा आप चाहो कल मिलते है

    ठीक है

    क्या कर रहे हो बारह बज गए खाना कहा लो जाने क्या मिलता है दिन भर लगे रहते हो चैट करने बच्चे बड़े हो रहे है शर्म किया करो .

    अरे रानी आज तो मज़ा आ गया २४ २८ साल के कपल मिले है वो भी दिल्ली के.

    रोज मिलते है ऐसे कपल आप को तो रियल में मिला कभी कोई? 60 साल के गुप्ता जी और उन की 55 साल की बिना दांतो बाली वाइफ के सिवाय.
    जाने इस उम्र में क्या सुझा है आप को खुद भी भिरस्ट हो गए और मुझे भी कर दिया यह सब करना था तो जवानी में करते अब 45 साल की उम्र में यह सब करना ठीक है क्या?
    घर में दो दो बहुएँ है जिंदगी भर तो राम राम किया अब साल भर से जाने क्या शौक लगा है,
    शराब भी पीने लगे मुझे भी बिगड़ दिया पतित कर दिया हे भगबान किसी को पता चल गया के आप यह सब करते हो तो क्या होगा?
    अरे रानी हमारे जमाने में इंटरनेट कहाँ था और जानू अभी तो हम जवान है और तुम भी कौन सा काम हो अभी भी दोनों बहुओं से ज्यादा सेक्सी लगती हो.

    है भगबान में तुम को बहुओं से भी ज्यादा सेक्सी लगती हु? शर्म नहीं आती तुम को माने तुम बहुओं पर भी नजर रखते हो 45 के होने के बाद भी लोगो से झूठ बोलते हो के में 36 का हु.

    अरे अरे नहीं मेरी रानी मेने तो ऐसे ही कहा और वो लोग कोन सा सच बोलते है यह इंटरनेट की दुनिया है. यहाँ सच झूठ से ज्यादा चलता है.
    बस तुम यार दिमाक मत खाओ खाना लाओ और बोतल खोलो. antarvasna
     
  2. sexstories

    sexstories Administrator Staff Member

    मान जा मोना २०० के ३०० लेलियो यार और साथ में बढ़िया खाना और दारू भी मिलेगी.
    भाग यहा से भड़बे टाइम ख़राब मत कर काम करना हो तो बोल फालतू बात नहीं करने का सुबह सुबह.

    प्रॉब्लम क्या है यार तुझ को जो यहाँ गंदगी में करती हो वही काम किसी बड़े होटल में करना होगा बस.

    अबे चूचे दिमाक मत खा आज सुबह सुबह चढ़ा आया क्या जो फालतू बके जा रहा है जाके कचड़े में से कबाड़ा बीन साला कबाड़ी और मुझे भी मेरा काम करने दे .

    अरे यार मोना बात समझ यार बड़ा मज़ा आएगा एक बार कर के तो देख.

    तू साला पागल हो गया है चूचे खुद तो मरेगा मुझको भी मरवायेगा जैसा तू कह रहा है ऐसा तो फिल्मो में भी नहीं देखा, साल यहाँ लोगो को मेरी 200 में महगीं लगती है, और तू कह रहा है दुनिया में इतने बड़े चूतिये भी होते है जो अपनी लुगाई भी चुदवाय और बड़े होटल में खाना और दारू भी पिलएं? ऐसा कभी होता है साला.

    होता है मोना डार्लिग होता है, साला आज कल इंडिया में यही हो रहा ,है इस को वाइफ स्वैप कहते है बोले तो अपनी लुगाई दुसरो से चुद्वाओ और दुसरो की लुगाई खुद चोदो.

    लेकिन चूचे में तेरी लुगाई थोड़े हु साले में साली सफाई कर्मचारी नाली साफ़ करने बाली कचड़ा ढोने बाली भंगनी लोगो से 200 में चुदने वाली रंडी हूँ, और साला चूचे तू ख़ुद साला कचड़े से कबाड़ा बीनता है,
    चल जोर की खुजली मची हो तो आ जा पैसे बाद में दे दियो.

    आरी मोना खुजली बाली बात नहीं है मेरे को करके देखना है, बड़े होटल में खाना खाना है दारू पीनी है बड़े लोगो के साथ बड़े लोगो की शरीफ लुगाइयों को चोदना है,
    साली तू अपना रंडी का दिमाक मत चला ज्यादा तू ,में हूँ न कुछ नहीं होगा आज रात को आ जाना खोली पर.

    साला मरेगा तू ठीक है लेकिन कोई गड़बड़ हुई तो तू जानना में तो तेरा नाम लेगी .

    तू चिंता मत कर में सब देख लूगा तू आजा रात को खोली पर.

    hi
    hello
    कैसे हो आप लोग
    हम लोग अच्छे है आप कैसे हो
    हम भी मज़े में है
    अभी आप दोनों साथ हो क्या
    हा हम दोनों साथ है
    तो वीडियो कॉल करे एक बार कन्फर्म हो जए फिर तो मिलना लगा है रहेगा
    जी जरूर

    नमस्कार भाईसहाब नमस्ते भाभी जी
    नमस्कार नमस्कार खाना हो गया
    अभी नहीं आज ऑफिस से आने में थोड़ा लेट हो गया था आप लोगो का हो गया
    अभी नहीं और सुनाये हमारी मेडम कैसी लगी आप को
    भाभी जी तो बहुत है सुन्दर है आप लकी हो जो आप को इतना सुन्दर वाइफ मिली
    आप लोग ड्रिंक करते हो
    हा हम दोनों करते है
    वह फिर तो मज़ा आ गया ड्रिंक के बाद मस्ती करने में ज्यादा मज़ा आता है
    आप लोग कितने लोगो से मिल चुके अभी तक
    १५-२० से
    हमारा पहली वार है

    चलो फिर में दस मिनिट बाद कॉल करता हूँ आप को
    ओके


    अबे साले चूचे यह लोग तो बहुत पैसे वाले लग रहे थे कमरा देखा सालो का एक दम फ़िल्मी साला कैसे घूर रहा था,
    हरामी और उस की औरत में तुझे जाने क्या दिख रहा है 40 साल की बुढ़िया, साले में तेरे को 24 साल का ताज़ा कड़क माल नहीं दिख रहा क्या.

    चुप कर तू साली नाली साफ़ करने वाली भंगी तू साली 200 रूपए में चुदने वाली राँड़ वो देख कितनी शरीफ इज़तदार औरत चल जा सुबह मिलते है ,

    जाती हूँ लेकिन मेरे को एक बात समझ नहीं आई साली में तो रंडी हूँ, लेकिन यह औरत कैसे शरीफ हो गई ?
    जो औरत 15-20 से चुद चुकी हो वो कैसे इज्जतदार हो गई ?

    पति के अलावा किसी और से चुदने वाली औरत किस तरह शरीफ और इज्जतदार हो सकती है ?


    क्यों के उस की असलियत किसी को पता नहीं
    दुनिया का दस्तूर जो पकड़ा गया वो चोर बाकि सब शरीफ और इज्जतदार.
     
  3. sexstories

    sexstories Administrator Staff Member

    नमस्ते भाईसाहब
    नमस्ते नमस्ते
    और क्या चल रहा है
    बस सब ठीक है आप बताओ
    सब मज़े है तो कैसी लगी आप को मेरी पत्नी
    अतिसुन्दर आप भाग्यसाली है जो इतनी सुन्दर पत्नी मिली और आप को मेरी मेडम कैसी लगी
    बहुत खूबसूरत लग ही नहीं रहीं थी के वो 24 की है, 20 की लग रही थी
    फिर मिलने का कुछ बनाते है
    हा हा क्यों नहीं आप के पास प्लेस है
    नहीं भाईसाहब हमारे पास नहीं है आप के पास
    नहीं यार हमारे पास भी नहीं है घर में बच्चे है
    फिर कैसे होगा
    होटल का रख लेते है संडे का
    ठीक है आप बतादेना जैसा प्रोग्राम बने
    ठीक है में आप को कॉल कर दूगा भाभी जी को मेरा नमस्ते कहना by
    by

    चूचे मुझे बहुत डर लग रहा है कितना बड़ा होटल है वहाँ कितने बड़े बड़े लोग रुकते है हम को कोई घुसने भी नहीं देगा मान जा चूचे.

    साली राँड चुप कर वहाँ शर्मा जी ने रूम बुक कराया है हम उन क़े मेहमान है, साली बस तू मेरी लुगाई बानी रहना मेरी बोले तो वर्मा जी की लुगाई और जैसे मेने बताया बेसे ही बात करना, अपनी रंडी बाली ज़बान मत बोलना और कपड़ो का धयान रखना किराये क़े है गंदे नहीं करना नहीं तो साली जैसे सरकारी पिशाब घर में चुदने क़े बाद अपनी सलवार क़े चूत पोछ लेती है बेसा मत करदियो,

    हा हा ठीक है तू चिंता मत कर लेकिन साले चूचे कोट पेंट में तू बिल्कुल हीरो लग रहा है.

    साली रंडी तू भी आज किसी हेरोइन से काम नहीं लग रही है वो साला शर्मा तेरे को देख कर पागल हो जायेगा साला कैसे भाभी जी भाभी जी कर रहा था वो क्या जाने भाभी जी नहीं यह साली 200 बाली रंडी है चल अब चलते है .

    होटल दिल्ली का मशहूर 5 स्टार होटल.

    चूचे और मोना रूम में पहुंचे वहाँ दिल्ली के सराफा कारोबारी शर्मा जी अपनी धर्म पत्नी के साथ मोजूद थे.
    ब्लू लेबल की बोतल और काजू बादाम तंदूरी मुर्गा मछली जाने क्या क्या खाने पीने का सामान रखा था.
    एक लोहा लंगड़ बीनने बाला कबाड़ी और 200 रूपर में सरकारी पिशाब घरो में चुदने वाली रंडी किराये के कपड़ो में सुन्दर संस्कारी कपल लग रहे थे, शर्मा जी सोच रहे थे आज तो उन के भाग्य खुल गए जो इतनी सुन्दर संस्कारी उच्च कुल बधु के साथ उन को सम्भोग का मौका मिला मिसेज शर्मा पैदायसी शरीफ थी पहले बड़े घर की लड़की थी फिर बड़े घर की बहु बनी और अब 40 साल की उम्र में पिछले एक साल में 20 लण्ड खाके और बड़ी शरीफ बन गई उनकी इज्जत और बड़ गई.

    सब लोग पलग पर बैठ गए पहली बोतल लगभग खाली हो चुकी थी हलकी फुलकी घरेलु बाते ख़तम हो कर सेक्सी बाते होने लगी थी माहौल गरम होता जा रहा था शर्मा जी जिन का नाम देव राज था देव ने मोना का हाथ पकड़ लिया था और उस को निहारे जा रहे थे, और चूचे भी मिसेज शर्मा जिन का नाम नूरी था नूरी से चिपक कर बैठ गया था दूसरी बोतल खुली एक एक पेग और लगा अब किसी से सब्र नहीं हो रहता था, देव ने मोना को दबोच लिया और उस के ओठों को बेदर्दी से चूसने लगा मोना भी पूरा साथ दे रही थी.
    वहाँ चूचे नूरी पर चढ़ गया था नूरी का बिलाउस उतर चूका था 40 साल की नूरी भी जवान लड़के और शराब के नशे में डूब कर चूचे का सर अपने 40 साइज के दूधो पर दवा रही थी.

    वहाँ देव और मोना पुरे नंगे हो चुके थे देव मोना के उरोजों को चूसे जा रहा था और एक हाथ से मोना की चूत सहलाता जा रहा था, मोना भी मस्ती में डूबी हलकी हलकी आहे भर रही थी तभी राज ने अपना मुँह उरोजों से हटाया और मोना की काम रास के भीगी चूत पर रख दिया मोना मनो पागल हो गई वो रंडी थी हजारो लण्ड
    चूत में खा चुकी थी लेकिन आज तक किसी ने उस की चूत को नहीं चाटा था जिंदगी में पहली वार किसी की जीव उस की चूत में जा रही थी वो और जोर से सिसकने लगी खुद अपने हाथो से अपने दूध दबाने लगी. देव भी २४ साल की पानी छोड़ती चूत को पागलो की तरह चाटने लगा चूत से बहता काम रास पीने से वो मदहोस होने लगा उस ने अपनी पूरी जीव मोना की चूत के लाल लाल छेद में घुसा दी.

    वहाँ चूचे और नूरी 69 पोजीसन में थे एक दूसरे की चूत लण्ड पीते जा रहे थे , नूरी चूचे के जवान लण्ड को मुँह में डाले चूसती जा रही थी, वो भी वासना की नदी में बह रही थी बीच बीच में वो लण्ड को मुँह से निकाल कर अपने चेहरे पर रगड़ रही थी उन का पूरा चेहरा थूक से चमक रहा था, चूचे भी पूरी लगन से नूरी की 40 साल पुरानी चूत को पुरानी शराब समझ कर पीता जा रहा था वो एक ऊगली नूरी की गांड में डाले था और जीव से चूत को चोद रहाथा कभी कभी वो गांड से ऊँगली निकाल कर अपने मुँह से चूस कर गीली करता और फिर नूरी की गांड में घुसा देता, नूरी कभी कभी अपने सुहाग को भी देखती जाती जो उस के बगल में चूचे की वाइफ मोना की चूत चाट रहा था, अपने पति को दूसरी औरत की चूत चाटते देख उस का सेक्स और बड़ रहाथा वहाँ देव भी अपनी वाइफ नूरी को किसी दूसरे मर्द का लण्ड पीते देख कर वासना से जल रहा था.
    पूरा कमरा मनो किसी प्रॉन मूवी का सेट बन गया हो, अब देव और चूचे दोनों अपने अपने माल पर सवार हो चुके थे देव का लण्ड मोना की चूत में समा चूका था और चूचे का नूरी की चूत में एक है बस्तर पर दोनों पति एक दूसरे की पत्नियों को चोद रहे थे और दोनों की पत्निया भी पूरी मस्ती से मज़े ले रही थी, १५ मिनिट तक चोदने के बाद देव और चूचे मोना और नूरी की चूत में झाड़ गए उन के माल से कॉन्डम फूलने लगा और माल की गर्मी से मोना और नूरी की चूत भी पानी छोडने लगी चारो लोग संतुस्ट हो कर आराम करने लगे आज पहली वार था, सो शार्ट एंड स्वीट प्रोग्राम था बाकि बाते फोन पर होगी आगे कब मिलना है एक दूसरे के कपल फ्रेंड के साथ कपल पार्टी कब करना है .



    चुकी आज यह उस की पहली मीटिंग थी सो सब काम शरीफाना तरीके से हो रहा था लेकिन देव राज शर्मा जनता था पहली वार नार्मल सेक्स किया जाता है फिर धीरे धीरे खुलने लगते है स्वैप में ऐसा है होता है सुरुवात सराफत के साथ होती है और आगे जाके यह सराफत बिभत्स्ता में परिबर्तित हो जाती है जब कोई न्यू पर्सन के साथ पहलीवार स्वैप किया जाता है तो समझो सुहागरात जैसा माहौल होता है जो एक्सपेरन्स बाले कपल होते है वो ऐसा प्रदर्शित करते है जैसे वो दुनिया के सब से शरीफ इंसान है और यह काम बहुत नेक काम है जैसे किसी कॉलेज के बच्चे को को ड्रग के लिए फसाया जाता है बेसा ही आभामंडल बनाया जाता है कुछ रूल और होते है जैसे जब तक आप किसी की ले न लो अपने ग्रुप में किसी को मत बताओ,लेकिन दुनिया में मादरचोद है तो चूचे और लुल्ली जैसे महा महा मादरचोद भी है जो इन मादरचोदो की भी माँ चोद देते है जैसेशर्मा जी ने खुद को काम ऐज बताकर सोचा के सामने वालो को ऊल्लू बना दिया लेकिन उन को क्या पता के चूतिया तो बो बने है मोना तो राँड है सो तुम उसे तो 200 में भी चोद सकते थे लेकिन चूचे कबाड़ी ने आप की शरीफ अनमोल लुगाई चोद दी और साथ में फ्री की दावत भी उडा ली.





    दोस्तों आगे जाके कहानी में कुछ नए किरदार भी जुड़ेगे नकाब के पीछे छुपे कुछ और शरीफ इज्जतदार चेहरे सामने आएंगे पुलिस की रेड भी होगी और क्या होगा जब शर्मा जी सुन्दर सुशील मोना भाभी जी को दिल्ली की गलियों की नालियों को साफ़ करता हुआ देखेगे और चूचे कबाड़ी क्या क्या नए नए कारनामे करेगा.
    लेकिन यह सब जानने के लिए आप को थोड़ा इंतज़ार करना होगा.
     
  4. sexstories

    sexstories Administrator Staff Member

    कैसे हो भाई


    मज़े है आप की दुआ है बड़े भाई

    और बताओ उस दिन कैसा रहा

    मज़ा आ गया बड़े भाई भाभी जी बहुत गरम है

    हु तो मेरी वाइफ ने पूरा मज़ा दिया आप को कुछ कमी तो नहीं रह गई

    नहीं बड़े भाई हम को बहुत मज़ा आया और आप को कैसा लगा, मेरी पत्नी ने आप को मज़ा दिया

    हा यार बहुत मज़ा दिया भाभी जी ने खुल कर साथ दिया

    तो फिर अब कब का बनाना है मेरी बीबी की चूत मचल रही है आप का लण्ड खाने

    हा हा हा हा जब आप बोलो बना लेते है आप का कोई और कपल फ्रेंड भी है क्या जो हमारे साथ मिलना चाहे
    नहीं हमारे पास कोई नहीं है, आप के साथ हमारा पहली वार था आप के पास है कोई और कपल

    हा आज कल एक कपल से बात हो रही है लेकिन अभी तक वीडियो पर कन्फर्म नहीं हुआ जब तक कन्फर्म न हो तक तक मिलना ठीक नहीं होता आज कल फेक कपल ज्यादा मिलते हे

    सही कहा बड़े भाई आप ने, बिना केम कन्फर्म के नहीं मिलना चाहिए साले लड़को ने लड़कियों और कपालो के नाम की id बना रक्खी है, मादरचोद दिन भर परेशान करते रहते है

    सही कहा आप ने आप ने कभी थ्रीसम किया है

    नहीं किया काफी कोशिस की लेकिन कोई ठीक बाँदा नहीं मिला

    हां ऐसी बातो के लिए किसी पर बिस्बास मुश्किल से होता है आखिर पत्नी है हमारी कोई रंडी तो है नहीं के किसी से भी चुदवा दो

    जी बड़े भाई बेसे आप को सेक्स में क्या पसंद है

    भाई हम को तो सब चलता है लेकिन एक बार वाइफ का गैंगबैंग देखने का बहुत मन है तीन चार लोग मेरी वाइफ को चोदे उस की गांड मारे उस का मुँह चोदे जितना भी गंदे से गन्दा हो सके मेरी पत्नी के साथ करे

    लेकिन बड़े भाई भाबी जी मनेगी यह सब करवाने को

    क्यों नहीं मने गी वो साली तो दारू पीके खुद कहती है मुझे चार चार लंडो से चुदना है

    वह बड़े भाई भाबी जी तो बड़ी बोल्ड है, लगती नहीं सकल से

    हा हा हा हा अरे भाई यह साली औरते सकल से तो सरीफ लगती है, लेकिन होती रंडी है और एक बार इनको दारू पीला दो फिर तो यह कुत्तो से भी चुद जाती है

    सही कहा बड़े भाई औरतो की माया कभी कोई नहीं समझ सकता कब शरीफ बन जये कब रंडी बन जाये
    तो फिर मिलने का प्रोग्राम कब बना रहे हो

    कुछ दिन रुक जाओ आज कल तो लाल बत्ती चल रही है वो ख़तम हो जये फिर बनाते है कुछ लो मेरी वाइफ से बात कर लो साली की चूत फड़क रही है तुम्हारे लण्ड के लिए

    नमस्ते भाभी जी किसी हो आप

    नमस्ते भाई साहब में अच्छी हु आप दोनों कैसे हो

    बस आप का आसीर्बाद है भाभी जी, मज़े में है और उस दिन कैसा लगा कुछ कमी तो नहीं रह गई

    नहीं कोई कमी नहीं थी बहुत मज़ा आया आप ने बहुत अच्छा किया मेरा दो वार पानी निकला और आप को में किसी लगी

    आप तो कमल हो भाभी जी आप जैसी हॉट औरत मेने आज तक नहीं देखी, आप ने बस्तर पर इतना सपोर्ट किया की सायद ही कोई औरत करती, आप बहुत मस्त हो भाभी जी और आप की चूत तो बहुत टाइट है

    आप भी कम नहीं हो आप का लण्ड भी काफी बड़ा है, मेरी बच्चेदानी तक जा रहा था आप के साथ सेक्स करके बहुत मज़ा आया
    भाभी जी आप ने कभी पीछे करवाया है

    हां काफी वार लेकिन पीछे में मुझे ज्यादा मज़ा नहीं आता लेकिन आप मर्दो तो जब तक औरत की गांड न ले लो चैन ही नहीं मिलता, जाने औरत की गांड में ऐसा क्या होता है के सरे मर्द उस के ही पीछे पड़े रहते हो

    अरे ऐसा कुछ नहीं भाभी जी वो तो क्या है कुछ नया टेस्ट मिल जाता है गांड में, और गांड चूत से थोड़ा टाइट भी होती है लण्ड कसा कसा जाता है

    और बताओ आप कितनो से मिले हो

    नहीं हम किसी से नहीं मिले आप के साथ पहली वार था बड़ी मुश्किल से तो वाइफ को तैयार किया आप तो जानते हो इंडिया में पत्नियों को स्वैप के लिए राजी करना बहुत मुश्किल होता है

    हा सही कहा मुझे भी इन्होने शराब पिला कर गन्दी फिल्मे दिखा कर मनाया था, चलो फिर मिलते है लो इन से बात करो

    बड़े भाई भाभी जी बहुत खुल कर बातें कर लेती है, मेरी वाइफ तो मेरे से भी लण्ड चूत नहीं बोलती

    अरे सब सीख जायेगी जरा 10 -20 लण्ड तो खा लेने दो फिर देखना कैसे लण्ड चूत गांड सब खुल खुल के बोलेगी

    देखते है बड़े भाई चलो फिर कोई मिले तो बताना नहीं तो अपना ही बनालो कुछ

    ठीक है भाई देखता हु कल उन कपल से बात कर के कुछ हुआ तो बताता हु नहीं तो हम दोनों तो है ही, और हा तुम भी कुछ सिंगल देखना,
    कुछ नहीं मिला तो वाइफ का गैंगबैंग तो करवा ही दुगा

    ठीक है बड़े भाई कल रात को मिलते है गुड नाईट

    गुड नाईट

    बेचारे शर्मा जी चूचे को शरीफ कपल समझ कर वाइफ के गैंगबैंग के लिए 3 -4 लड़को का इंतजाम करने का कह रहे थे, वो बेचारे क्या जाने चूचे तो उन की शरीफ इज्जतदार लुगाई को पूरी दिल्ली के भिखारी कबाड़ी रिक्सेवालो से चुदवा सकता है, अब क्या करे शौक बड़ी चीज है अब शर्मा जी को भी आज कल वाइफ स्वैप का बड़ा चस्का लगा है, अब 45 साल की उम्र में वो क्या जाने आज कल के नए नए लड़के जिन ने रो रो कर बाप से मोबाईल तो दस हजार का ले लिया लेकिन रिचार्ज दस रूपए का कराते है, अम्बानी की किरपा से फ्री का नेट चला चला के कितने बड़े मादरचोद बन चुके है, उन के चक्कर मै जो फसा वो काम से गया, उस की माँ चुदने से कोई नहीं बचा सकता, अब देखते ही चूचे कबाड़ी के चक्कर में फ़स कर शर्मा जी अपनी वाइफ की क्या गत कराते है, और साथ में अपने किन किन नेट फ्रेन्डो की वाइफ भी चूचे कबाड़ी और उस के भिखारी दोस्तों से चुदवाते है.
     
  5. sexstories

    sexstories Administrator Staff Member

    रात के आठ बज रहे थे दिल्ली शहर की रात अपनी जवानी पर थी.


    कालू और लालू दिन भर के थके हारे बीड़ी पीते अपनी खोली की और चले जा रहे थे,

    दोनों 22 -24 साल के सगे भाई थे एक खोली में साथ में रहते थे, गंदे फाटे कपडे पहने थे, उस के बदन से बदबू आरही थी, देख कर लग रहा था सायद पैदा होने के बाद कभी नहाया ही न हो, .पहली नजर में ही समझ आ रहा था के बो लोग भिकारी है, जी हा वो भिकारी ही थे, पहाड़जंग स्टेशन के बहार काला चस्मा लगाके अंन्धे बनने का नाटक करते हुए भीख मांगते थे.

    उन की जिंदगी हिंदुस्तान के मध्यम बर्ग की अपेच्छ काफी सुखी थी, जहाँ एक मध्यम बर्ग के परिवार की आमदनी 15 से 20 हजार होती है, बहा बड़े शहरो के भिकारी बड़े आराम से 30 से 40 हजार रूपए महीना कमा लेता है, और साथ में भांति भांति का खाना फ्री,और उन को न स्कूल की फीस देनी होती है न बिजली का बिल न
    गैस की झंझट,इंडिया का लगभग हर भिकारी 5 से 10 लाख बाले टैक्स स्लेव में आता है.

    दोनों मस्ती में बीड़ी पीते पीते अपनी खोली के पास पहुंच गये,

    अबे मादरचोदो कहा थे इतनी देर से साले एक घंटे से इंतजार कर रहा हू, मोबाईल भी बंद आ रहा है,

    अरे चूचे भाई तुम क्या बात है, आज मोना भंगिन को चोदने का कोई ठिकाना नहीं मिला जो हमारे यह आ गये, कहा है वो रांड.

    अबे मोना भंगिन को छोड़ मेरी बात सुन, अब में बड़े लोगो में उठने बैठने लगा हू, मोना जैसी घूरे पर चुदने वाली रंडियो के साथ अब मुझे मज़ा नहीं आता, अब तो में बड़े लोगो की लुगाइयाँ चोदता हू.

    अबे चूचे तू ज्यादा चढ़ा आया है क्या जो फालतू बातें कर रहा है, साले कबाड़ी बड़े लोगो की लुगाइयाँ चोदेगा मादरचोद जागते जागते सपने देख रहा है,

    अबे मादरचोदो तुम लोग न जिंदगी भर भिखारी के भिखारी ही रहोगे कभी बड़ा नहीं सोच सकते,
    बेटा में सपने नहीं देख रहा सच कह रहा हू, अब में बड़े लोगो की लुगाइयाँ चोदता हू,
    और आज तुम को भी चुद्वाओ गा.माँ कसम में झूठ नहीं बोल रहा.

    अरे यार चूचे भाई क्यों मज़ाक कर रहे हो, हम भिखारियों के नसीब में कहा बड़े लोगो की लुगाइयाँ,
    हम तो उन के घरो में तक नहीं घुस सकते और तुम कहते हो हमको भी बड़े लोगो की लुगाइयाँ चुद्वाओ गे.

    बेटा में मज़ाक नहीं कर रहा आज सच में में तुम लोगो को एक करोड़पति की लुगाई चुद्वाओ गा लेकिन तुम को बही करना होगा जो में कहुँ,

    चूचे भाई हम दोनों भाई तो कब से बड़े घरो की औरतो को चोदने के सपने देख रहे है, साली रंडियो में मज़ा नहीं आता रंडिया तो साली चूत खोल कर लेट जाती है दूध भी दबाओ तो नखरा करती है,

    चलो बेटा आज में तुम लोगो का सपना पूरा करादेता हू, लेकिन पहले अच्छे से नहालो और डियो लगा लो, और वहां जाके कुछ बोलना नहीं ,कोई कुछ कहे तो हा हू में जबाब देना बाकि में देख लुगा, चलो जल्दी से नहालो जब तक में पार्टी से बात करता हू,

    नमस्ते शर्मा जी,

    नमस्ते भाई काफी देर कर दी आठ बज गये हम कब से आप के फोन का इंतजार कर रहे थे, आज बड़ी मुश्किल से घर खली हुआ सब लोग बड़ी बहु के मायके सादी में गये है, हम आप के कहने पर रुक गये बताओ कुछ इंतजाम हुआ,

    बुल्कुल हुआ बड़े भाई दो साऊथ इंडियन इंजिनियर लड़के मिल गये है, वो दोनों एक बहुत बड़ी कम्पनी
    में नौकरी करते है पार्ट टाइम में प्ले बॉय का काम करते है, बीस बीस हजार मांग रहे थे बड़ी मुश्किल से पंद्रह पंद्रह हजार में पटाया,

    अरे भाई पैसो की कोई बात नहीं लेकिन काम तो अच्छा करेगे,

    अरे बड़े भाई आप उस की फ़िक्र मत करो दोनों एक्सपर्ड है भाभी जी को पूरा मज़ा देंगे ,

    चलो देखते है कब तक आ रहे हो,

    बस एक घंटे में पहुंच जायेगे,

    ठीक है आ जाओ में इंतजार कर रहा हू ,


    अबे चूचे भाई मरवाएगा क्या, इतना बड़ा बगला साले यहाँ तो कोई बहुत बड़ा आदमी रहता होगा,

    अबे मादरचोद भिखारी, क्या बड़े आदमी की लुगाई के चूत नहीं होती, के उस को चुदास नहीं लगती,
    साले आदमी छोटा हो या बड़ा चूत लण्ड सब के पास एक सा होता है, सभी खाते है, सभी हगते है, सभी पीते है ,सभी मूतते है.अब तू मुँह बंद कर मुझे फोन करने दे.

    बगला जितना आलीशान था शर्मा जी का बैडरूम भी उतना ही भब्य था शानदार बेड पड़ा था, आलीशान सोफे डले थे हर चीज से बैभब टपक रहा था, शर्मा जी अपनी पत्नी के साथ बैठे थे, चूचे कालू और लालू भिखारी के साथ बैठा था, तीनो किराये के कोट पेन्ट पहने बड़े घरो के रोसन चिराग लग रहे थे, इंजीनियर लग रहे थे,
    टेबल पर Johnnie Walker Blue Label की पंद्रह हजार पर बोतल की कीमत वाली चार बोतले पड़ी थी खाने में तो जाने क्या क्या था,

    क्या किस्मत थी साले भिखारियों की देसी ठर्रा पीने बाले ब्लू लेबल पी रहे थे, लोगो का जूठन खाने वाले 5 स्टार होटल का खाना खा रहे थे, नाली किनारे गन्दी खोली में में सोने वाले 5 स्टार होटल के जैसे आलीशान कमरे में बैठे थे, और उन के सामने बैठी थी शहर की इज्जतदार करोडपती परिवार की सरीफ इज्जतदार 40 साल की महिला जो पति के अलाबा 20 लोगो के साथ सम्भोग करने के बाद भी सरीफ और इज्जतदार थी, और आज भिखारियों से चुदने के बाद भी सरीफ और इज्जतदार रहेगी.ऊपर बाले तेरे रंग निराले.

    सब लोग ब्लू लेबल की दो बोतले खली कर चुके थे, शराब अपना असर दिखा ने लगी थी,
    शर्मा जी का बरसो पुराना सपना पूरा होने वाला था उस की लुगाई का तीन इंजीनियर दुवारा गैंगबैंग होने वाला था.

    चलो भाई काम सुरु करो खाना पीना तो चलता ही रहेगा चलो सब बेड पर चलो,

    सब लोग बेड पर आ गये, शर्मा जी कोने ने बेठ गये और तीनो कबाड़ी भिखारी शर्मा जी की पत्नी पर झुख गये,
    कालू ने भाभी जी का सर पकड़ कर उन के मुँह में अपनी गन्दी जीव घुसा दी, और भाभी जी के मुँह को चाटने लगा लालू और चूचे भाभी जी के दूधो को चूसने लगे, भाभी जी पर भी ब्लू लेबल की खुमारी छाई थी ऊपर से तीन तीन जबान लड़को की जीवो को अपने शरीर पर मचलते पाके भाभी जी की सिसकिया निकलने लगी ,
    वहां शर्मा जी भी अपनी पत्नी को तीन तीन लड़को के साथ काम क्रिया करते देख नंगे होकर अपना लण्ड मसलने लगे,
    अब सब लोग नंगे हो चुके थे लालू भाभी जी की चूत को चाट रहा था, चूचे भाभी जी के दूधो को जोर जोर से मसल मसल कर पीता जा रहा था, कालू ने अपना लण्ड भाभी जी के मुँह के सामने रख दिया और भाभी जी ने उस को मुँह में भर लिया लण्ड मुँह में जाते ही भाभी जी और उबकाई सी आई कालू लालू ने आज 15 दिन बाद नाहा तो लिया था लेकिन वो लण्ड धोना भूल गये थे 15 दिनों की गंदगी से उस के लण्ड सड़ांद मार रहे थे भाभी जी के मुँह के थूक से लण्ड की गंदगी घुलने लगी और बदबू फैलने लगी लेकिन तब तक कालू ने उन का सर पकड़ कर अपना पूरा लण्ड उन के मुँह में पेल दिया और लण्ड की सारी गंदगी भाभी जी के पेट में पहुंच गई भाभी जी भी लण्ड की गन्दी सड़ांध को सूघ कर और मस्त हो गई वो भी पूरा मुँह खुले कालू का लण्ड पीने लगी,
    चूचे ने जोर जोर से मसल कर भाभी जी के दूध लाल कर दिए थे लालू भी बेदर्दी से भाभी जी की चूत को चाटता काटता जा रहा था, शर्मा जी की सांसे भी तेज़ हो गई वो भी अपनी पत्नी की चुदाई देख देख कर लण्ड हिलने लगे,
    अब कालू ने भाभी जी की चूत में लण्ड पेल दिया था वो जोर जोर से झटके मरने लगा भाभी जी ने भी जबान लण्ड के लिए पूरी चूत खोल दी और लालू का लण्ड मुँह में लेकर उस की गंदगी साफ़ करने लगी चूचे अपना लण्ड भाभी जी की चूचियों पर रगड़ने लगा, भाभी जी आसमान मै उडी जा रही थी, वो आखो को बंद किये तीन तीन लंडो का मजा ले रही थी, कालू के झटको की रफ़्तार बढ़ने लगी थी वो पागलो की तरह भाभी जी को चोदे जा रहा था ,उस का काला मोटा लण्ड भाभी जी की बच्चेदानी तक जा रहा था, तभी उस ने जोर का झटका मारा और लण्ड को भाभी जी की बच्चेदानी मै टिकाके माल की पिचकारी भाभी जी की चूत में छोड़ दी,

    तीन तीन लंडो के मज़े से भाभी जी भी कालू के लण्ड पर अपनी चूत दबाये झड़ने लगी लण्ड और चूत के पानी का मिलान होने लगा, कालू ने चूत से लण्ड निकालके भाभी जी के मुँह में डाल दिया, भाभी जी भी मज़े से कालू के लण्ड का माल और अपनी चूत का पानी खाने लगी, नशे में जलते शर्मा जी जलती आखो के साथ जाके अपनी पत्नी की चूत के पास पहुंच गये और चूत पर मुँह रख दिया और अपनी पत्नी की चूत से बहता कालू भिखारी के लण्ड का माल चाटने लगे, शर्मा जी को अपनी पत्नी की चूत से लण्ड का माल देख कर तीनो लड़के वासना से तड़प उठे वो लोग जाके एक एक बड़ा पैग बनके पीने लगे,
    शर्मा जी के हटते ही वो तीनो भाभी जी के पास पहुंचे और चूचे लेट गया और भाभी जी उस पर चढ़ कर उस का लण्ड पकड़ कर अपनी चूत में लेने लगी, और लालू ने अपना लण्ड भाभी जी की गांड में पेल दिया वह कालू खड़ा होकर भाभी जी के बाल पकड़ कर उन का मुँह चोदने लगा, भाभी जी के तीनो छेद लंडो से भर गये यह सीन देख कर शर्म जी के लण्ड से माल छुट पड़ा, अपनी पत्नी की चुदाई देखते देखते बो झड़ने लगे, वासना अपने उफान पर थी तीनो जबान लड़के भाभी जी की 40 साल पुरानी चूत गांड और मुँह को पागलो जैसे चोदे जा रहे, थे भाभी जी तीन बार झड़ चुकी थी वो निढाल होकर तीन तीन लंडो की ठोकरे झेलती जा रही थी, कुछ देर बाद तीनो लड़को ने भाभी जी के तीनो छेद अपने लण्ड के माल से भर दिए, भाभी जी ने भी फिर से अपनी चूत का पानी छोड़ दिया सब निढाल होकर बेड पर लेट गये और लम्बी लम्बी सांसे लेने लगे,

    आज शर्मा जी की खुसी का ठिकाना नहीं था आज उन का बरसो पुराना सपना साकार हो गया था आज दो साऊथ इंडियन इंजिनियर ने उन की पत्नी की चूत पर पुल बना दिया था.
     
  6. sexstories

    sexstories Administrator Staff Member

    अबे साले जल्दी कर आज क्या बियाग्रा खाके आया है क्या, साला पहले तो दो मिनिट में निपट जाता था आज दस मिनिट से चढ़ा हुआ है, देख नहीं रहा चार लोग और भी खड़े है,



    मोना भंगिन सरकारी शौचालय में कुतिया बानी थी, और भोला रिक्से वाला उस की गांड मार रहा था, और चार मजदूरों जैसे लोग मोना और भोला की चुदाई देख कर अपने नंबर के इंतजार में खड़े खड़े लण्ड हिला रहे थे,

    अरे मोना रानी तेरी गांड अब बहुत खुल गई है, लण्ड को मज़ा नहीं आ रहा ,तभी तो मेरा पानी नहीं निकल रहा तू अपनी गांड को थोड़ा सिकोड़ न फिर देख कैसे मेरी पिचकारी निकलती है,

    मोना अंदर को सांस खींच कर अपनी गांड सिकोड़ती हे, ले साले सिकोड़ लिया मेने अपने अपनी गांड का छेद आ अब पेल जल्दी जल्दी,

    आ आआ है मोना रानी हा अब मज़ा आया अहा, ले रानी झेल मेरा लण्ड अपनी गांड में ले कुतिया आ आआ अहा
    भोला जोर जोर से अपना लण्ड मोना की कसी गांड में पेल कर झाड़ जाता हे,

    पांचो लोगो को ठंडा करके मोना भंगिन ने हजार रूपये कमा लिए थे, वो मस्ती में डूबी अपनी चूत और गांड में लण्ड का माल भरे गाना गाते गाते अपनी कचड़े की टोकरी उठाये नालियां साफ़ करने लगी,

    शर्मा जी अपनी नई निकोरी मर्सिडीज़ बेन्ज़ में बैठे कनॉट प्लेस बाले अपने गहनों के शोरूम की तरफ चले रहे थे, 65 साल का राम कुमार उन का खानदानी ड्राइवर सामन्य रफ़्तार से गाड़ी चलता जा रहा था,

    अरे राम कुमार जरा गाड़ी रोकना

    जी मालिक

    अरे भाभी जी आप यहाँ यह क्या कर रही हो

    नाली साफ़ करती मोना भंगिन जोर से चौक पड़ी, नई निकोरी मर्सिडीज़ बेन्ज़ और उस के पास खड़े शर्मा जी को देख कर उस की गांड फट गई चेहरे पर हवाइयां उड़ने लगी उसे समझ नहीं आया के क्या कहे,

    अरे भाभी जी बताओ तो आप यहाँ क्या कर रही हो और यह गन्दी नालियां क्यों साफ कर रही हो,

    वो भाई साहब हमारी महिला मण्डली ने स्वच्छ भारत अभियान से जुड़कर दिल्ली को साफ़ करने का संकल्प लिया है, इस लिए में यहाँ की सफाई कर रही हू ,मेरी साथ बाली महिलाये दूसरी तरफ चली गई, में यहाँ की साफ़ सफाई कर रही हू,

    ओहो भाभी जी आप कितनी महान हो आप जितनी सुन्दर हो उतना ही सुन्दर आप का आचरण है, में आप की सादगी और महानता को नमन करता हू, और में भी इस महान काम में आप का हाथ बटाना चाहता हू,

    अरे नहीं भाई साहब आप रहने दो आप के कपडे ख़राब हो जयेगे में कर लूगी बस थोड़ा सा ही काम बाकि है,

    अरे नहीं भाभी जी में भी आप के साथ मिलकर यह पुण्य कार्य करना चाहता हू मुझे भी तो कुछ पुण्य कमाने का मौका दो,

    और शर्मा जी ने अपना कोट उतर कर गाड़ी में रख दिया और मोना भंगिन का गंदगी से भरा टोकरा उठा लिया,

    जैसे ही कार मोना के पास रुकी 65 साल के राम कुमार के तोते उड़ गए, वो भी मोना भंगिन को काफी बार बजा चुका था, अपने शरीफ इज्जतदार करोड़पति सेठ जी को 200 रूपए में चुदने बाली रंडी से इतना सम्मान के साथ बात करता देख उस का भेजा फ्राई हो गया, और फिर जब सेठ जी ने कोट उतर कर गंदगी से भरा टोकरा उठाया तो वो तो हैरान रह गया, इतना अचम्भा तो उसे कुतुबमीनार को चांदनी चौक पर टहलता देख कर भी नहीं होता, जितना सेठ जी को टोकरी उठाते देख हुआ, उसे लगा सेठ जी का काम हो गया अच्छे भले सेठ जी पागल हो गए,

    क्या नजारा था मोना नाली से गंदगी निकालती जा रही थी और शर्मा जी के हाथ में पकडे टोकरे में डालती जा रही थी,शर्मा जी बड़े ही श्रद्धा भाव से गंदगी का टोकरा उठाये मोना भंगिन के पीछे पीछे चल रहे थे और दिल्ली साफ़ कर रहे थे .

    आस पास रहने वाले मजदुर भिखारियों की आँखे भी यह नजारा देख कर फट गई, कहा मोना भंगन और कहा मर्सिडीज़ बेन्ज़ और इतना बड़ा आदमी, सारे मजदूर भिखारियों को चिंता होने लगी के कही बड़े बड़े लोगो से चुदने के बाद मोना भंगिन अपने रेट न बड़ा दे,

    बेसे ही महगाई काम है क्या हर चीज महगी है, लो अब चूत पर भी महगाई की मार पड़ गई, चूत पर भी अब 28 % GST लग गई, आम आदमी की फटी फटाई गांड और फट गई.

    स्वच्छ भारत अभियान ख़तम हुआ दिल्ली स्वच्छ हो गई मोना और शर्मा जी ने मिलकर दिल्ली को स्वच्छ बना दिया,

    राम कुमार से मगाई मिनरल वाटर की बोतलों से मोना भाभी जी और शर्मा जी ने हाथ पैर धो लिए.

    चलिए भाभी जी आप को घर छोड़ दू,

    नहीं भाई साहब आप परेशान न हो में चली जाऊगी,

    अरे ऐसा नहीं हो सकता भाभी जी आज तो आप को मेरे साथ ही चलना होगा मेने कल ही यह मर्सिडीज़ बेन्ज़ खरीदी है, आज तो आप को अपने पवित्र चरणों से इस को भी पवित्र करना होगा.

    लेकिन भाई सहाब में घर नहीं जा रही हू मुझे एक अंगूठी खरीदनी इस लिए में बाजार जा रही हू,

    ओहो देखो इस को कहते है दिया तले अंधेरा अरे भाभी जी हमरे शोरूम के होते हुए आप किसी और दुकान से अगुति खरीदोगी, नहीं भाई जी अब तो आप मेरे साथ मेरे शोरूम चल रही हो आज तो मेरे लिए बड़ा शुभ दिन है मेरी नई गाड़ी के साथ मेरा शोरूम भी आप के चरणों के स्पर्स से पवित्र हो जयेगा,

    अब मोना के सामने कोई रास्ता नहीं बचा था, वो राम कुमार से नजरे चुराती डरी सहमी अपनी चूत और गांड में भरे मजदूरो के लण्ड के माल के साथ शर्मा जी की नई निकोरी मर्सिडीज़ बेन्ज़ में बैठ गई और
    नई निकोरी मर्सिडीज़ बेन्ज़ पवित्र हो गई,

    गाड़ी शोरूम पहुंची शर्मा जी और मोना भंगिन उतर कर शर्मा जी के ऑफिस में जाके बैठ गए और मोना अपनी चूत और गांड से बहते लण्ड के माल से शर्मा जी का शोरूम पवित्र करने लगी,

    शर्मा जी का शोरूम और ऑफिस देख कर मोना की गांड फटी जा रही थी इतने सारे सोने के जेवर देख कर उस का गाला सूखा जा रहा था,

    बहा शोरूम के लगभग सारे नौकर मोना को बजा चुके थे, दो कौड़ी की सरकारी शौचालय मै चुदने वाली रंडी को अपने सरीफ इज्जतदार करोड़पति मालिक के साथ उस के ऑफिस में जाता देख सभी हैरान हो गए सभी को लगा के सेठ जी सठिया गए पागल हो गए .

    वहां ऑफिस में पड़ी टेबल काजू बादाम पिस्ता और जाने किन किन मिठाइयों से भर गई थी,

    मोना के ना ना करने के वाबजूद सेठ जी ने चार लाख रूपर कीमत की दो हीरो ही अंगूठी मोना को पहना दी थी,

    भाभी जी आप बुरा ना मनो तो एक बात कहु,

    भाभी जी भाभी जी तो हीरे की दो अंगुठिया पहने मन ही मन खुसी से पागल हुई जा रही थी

    जी भाई साहब कहिये

    आप को देख कर मुझ से रहा नहीं जा रहा है क्या आप अभी एक बार मेरे साथ सेक्स कर सकती हो, आप यह मत समझना के में गलत आदमी हू, वो तो आप आज एक दम अचानक से मिल गई आप को अपने इतने पास देख कर मुझे उस दिन की याद आ गई, उस दिन आप के साथ किया सेक्स मेरी जिंदगी का सबसे अच्छा सेक्स था, क्या पता फिर कब मिलना हो, में साफ़ मन का आदमी हू, मुझे जो लगा वो मेने कह दिया आप मेरी बात का बुरा मत मानना,

    शर्मा जी क्या जाने मोना भंगिन चार लाख की हीरे की दो अगुठियो के बदले तो सारी दिल्ली से चुद सकती थी यहाँ तो केबल एक ही बाँदा था,

    भाई सहाब मुझे आप की बात बुरी नहीं लगी लेकिन यहाँ ऑफिस में कैसे होगा कोई आ गया तो,

    यहाँ कोई नहीं आएगा मेरे ऑफिस में जबतक में ना बुलाऊ कोई नहीं आ सकता आप फ़िक्र ना करो ,मुझे अपनी इज्जत से ज्यादा आप की इज्जत प्यारी है, और फिर भी में दरवाजा अंदर से लॉक कर देता हू आप वहां सोफे पर चलिए,
    शर्मा जी के मन में लड्डू फूटने लगे वो दरवाजा बंद करके कोने में पड़े आलीशान सोफे सेट के पास पहुंचे और बहा रखी अलमारी से Chivas Regal Aged 12 Years Blended Scotch Whisky की बोतल निकल कर दो पेग बनाने लगे, दोनों हलकी फुलकी बातें करते करते 15 हजार रूपए की व्हिस्की बोतल को खाली करते जा रहे थे धीरे धीरे दोनों पर नशा चढ़ने लगा ,

    शर्मा जी मोना को किश करने लगे, मोना भी शर्मा जी को फुल सपोर्ट कर लगी ,उस ने शर्मा जी का सर पकड़ कर अपनी जीव उन के मुँह मि घुसा दी और उन के पुरे मुँह को चाटने लगी, शर्मा जी भी अपने मुँह में मोना की जीव दबाके मोना के उरोजों को मसलने लगे ,दोनों लोग गरम गरम सांसे छोड़ने लगे, वासना और शराब का नशा उन के सर चढ़ गया, शर्मा जी ने मोना को नंगा कर दिया और खुद भी अपने कपड़े निकाल दिए ,शर्मा जी ने दोनों हाथो से मोना की टांगो को फैला दिया और अपना मुँह मोना की चूत पर रख दिया, मोना की चूत के अंदर से निकलते मजदूरो के लण्ड का कसेला माल जैसे ही शर्मा जी के मुँह में गया उस के अंदर हवस का तूफान उमड़ पड़ा, वो जोर जोर से मोना की चूत को चूसने लगे ,उन का पूरा चेहरा मोना की चूत रास और मजदूरो के लण्ड के माल से भीग गया, वो दीवानो की तरह मोना की चूत को चूसते जा रहे थे,

    मोना भी शराब के नसे और चूत चटाई से मचलने लगी वो अपने निप्लो को मसलती हुई सिसकारियां छोड़ने लगी, उस के अंदर भी काम की आग भड़क ने लगी, वो भी हलके हलके अपने चूतड़ उछलने लगी,

    शर्मा जी अब चूत छोड़ कर मोना की गांड के छेद को मुँह में भर कर चूसने लगे, मोना अपनी गांड पर शर्मा जी के मुँह को महसूस कर थर्रा गई, उस की रंडी गांड को कभी किसी ने प्यार से सहलाया तक नहीं था, जो आता वो तो बस लण्ड पेल कर उस की गांड मारके अपना माल निकल कर चला जाता,
    शर्मा जी के मुँह में अपनी गांड का छेद जाते ही उसे जोर का झटका लगा और उस की गांड मै भरा भोले रिक्से वाले के लण्ड का माल शर्मा जी के मुँह में निकल गया, शर्मा जी अपने मुँह में गिरते माल को पीकर मदहोस हो गए, और उन्होंने अपनी पूरी जीव मोना की गांड में डाल कर अपने होटो से उस की गांड का छेद दबालिया और अगुठे से मोना की चूत के पिशाब बाले छेद को मसलने लगे,

    गांड चुसाई के साथ पिशाब वाले छेद पर शर्मा जी के अगुठे की रगड़ से मोना जोर जोर से सिसकिया भरने लगी, अपने चूतड़ और जोर से शर्मा जी के मुँह पर दवाने लगी उस की चूत जलने लगी चूत की पत्तिया फेल गई और वो एक चीख मर कर शर्मा जी के मुँह पर अपनी चूत का पानी छोड़ने लगी उस की चूत के बहता गरम गरम गाढ़ा गाढ़ा चूत रास बहकर शर्मा जी की मुँह को भिगोने लगा शर्मा जी गांड छोड़ कर मोना की चूत से बहता माल चाटने लगे अपने चेहरे को मोना की चूत पर रगड़ने लगे,

    मोना पानी छोड़ कर सिथिल हो कर सोफे पर पड़ी थी, लेकिन शर्मा जी उस की चूत से निकले काम रास को पीकर काम अग्नि में जले जा रहे थे उन का प्रभाबशाली चेहरा काम रास और थूक से भीगा हुआ था,

    कोई इस हाल में उन को देखता तो यकीन न करपाता के यह बही शर्मा जी ही जो दिल्ली के सभ्य समाज के एक बड़े स्तम्भ हे समाज में जिन को बड़ी इज्जत की नजरो से देखा जाता हे, वो शर्मा जी जो सुबह शोरूम पर आके सब से पहले अगरबत्तियां जला कर पूजा पाठ करते थे, आज सुबह सुबह शराब पीकर अपनी बहु की उम्र की लड़की की चूत और गांड चाट रहे थे ,

    काम वासना दुनिया का सब से ख़तरनाक नशा जो ज्यादातर सरीफो को अपना शिकार बनता हे,
    यही वासना का नशा शर्मा जी के दिलो दिमाक को बस में कर चूका था, शर्मा जी उम्रदराज आदमी थे दुनिया की अच्छी बुराई से भलीभांति परिचित थे, लेकिन वो भी काम वासना के नशे के शिकार होकर अपनी मान मर्यादा गवाते जा रहे थे, कल तक जो नौकर उन को देवता समझते थे आज उन को पागल समझ रहे थे,
    शर्मा जी तो फिर भी एक बड़ी उम्र के समझदार आदमी थे,

    लेकिन जब काम वासना का नशा किसी नौजबान युबा को अपना शिकार बनता हे तब क्या होता हे?
    तब किसी निर्भया के साथ हैवानियत का घिनौना नाच होता हे, तब किसी मासूम का बलात्कार होता,
    अबैध रिश्ते पननपते हे, तब किसी शरीफ का घर उजड़ता हे, तब खून खराबा होता हे, सुसाइड होती हे,
    मासूम बच्चों की चीख पुकारो से कोलाहल मच जाता हे,
    समाज और धर्मो के बनाये हजारो साल पुराने नियमो की धज्जियां उड़ जाती हे, बेटे माँ को वासना पूर्ति का मार्ग समझने लगते है, भाई अपनी बहिन को कामुक नजरो से देखने लगते हे, बाप की नजर में बेटी रति की मूरत बनने लगती हे,
    और यह सब होता हे केबल काम वासना की सन्तुस्टि के लिए जो केबल एक सामान्य शारीरिक स्पर्स के सिवा कुछ भी नहीं ,
    हमारे समाज अपने झूठे आडम्बरो के नाम पर कितनी और बलि लेंगे, कितनी युबा और मासूमो को मुजरिम बनायेगे,
    जो भी लोग हमारे समाज के ठेकेदार बने बैठे हे ,उस के काले कारनामे रोज हमारे सामने खुल रहे हे, उस सब ने परदे के पीछे अपनी घृड़ित से घृड़ित काम पिपासा को शांत करने के साधन बनाये रखे हे,
    वो लोग खुद पेट भर खाने के बाद भूखे लोगो को संयम रखने का भाषण देते है,
    लेकिन वो नहीं जानते जो चक्रव्यूह वो बना रहे हैं उस में उन के बच्चे भी फ़स कर अपना जीवन बर्बाद कर लेंगे,

    क्या समय नहीं आ गया के अब हमारे समाजो को बदल जाना चाहिए, क्या समय नहीं आ गया के हमें बदल जाना चाहिए,
    हमें भी बिकसित देशो की तरह वासना पूर्ति के सरल एवं सुरक्षित मार्ग बनाने चाहिए,
    काम को एक सामान्य शारीरिक आवश्यकता समझते हुए पर्दो के बाहर लाना चाहिए.
    काम को प्रतिबंधित नहीं बल्कि सुलभ बनाना चाहिए,


    अब शर्मा जी के लिए अपनी काम की आग को सम्हालना मुश्किल हो रहा था, वो मोना के चूत से मुँह हटाके मोना के ऊपर चढ़ गए और मोना की चूत में लण्ड डाल कर अपने चूत के माल से भरे मुँह को मोना के मुँह से मिला कर चूत में अपना लण्ड पेलने लगे, मोना भी शर्मा जी की चूत चटाई से गरमा गई थी उस की चूत फिर से जलने लगी थी उस ने भी नीचे से चूतड़ उछलना सुरु कर दिया और शर्मा जी के मुँह से अपनी चूत का माल पीने लगी शराब और वासना के नशे में जलते दो नंगे जिस्म एक दूसरे में समाने की कोशिस करने लगे,

    पूरा ऑफिस उन दोनों की सिसकियों से गुजने लगा दोनों लोगो के झटको की रफ़्तार बढ़ती जा रही थी,
    मोना शर्मा जी का पूरा साथ दे रही थी, अपने रंडी बजी के सारे पैतरे आजमा रही थी, वो शर्मा जी की छाती से अपने गरम उरोज रगड़ रही थी वो अपनी चूत को सिकोड़ कर टाइट कर रही थी ,

    शर्मा जी मोना के रंडी पन के जाल में फ़स कर काम वासना के उच्च शिखर पर पहुंच गए थे, उन का लण्ड काम रस के बेग से फूलने लगा, उन्होंने जोर से मोना के उरोजों को मुठी में दबा लिया, और जोर जोर से उरोजों को मसलते मसलते अपना लण्ड मोना की गरम चूत में पेलने लगे, मोना भी उन के साथ साथ अपने चूतड़ों को ऊपर निचे कर रही थी, पूरा ऑफिस उन की चुदाई की थप थप से गूंज रहा था, अब दोनों अपने अंतिम मुकाम पर पहुंचने वाले थे, शर्मा जी तूफानी रफ़्तार से लण्ड को मोना की चूत में पेले जा रहे थे, मोना ने अपनी सांस पीछे को खेच कर अपनी चूत को टाइट कर लिया था, शर्मा जी का लण्ड चूत में कसने लगा था, उन के लण्ड को मोना की चूत ने जकड़ लिया था, अब उन की सहनशक्ति ख़तम हो गई और वो एक जोर का झटका मार के मोना की चूत में अपने लण्ड का पानी छोड़ने लगे उन के माल से मोना की चूत का तालाब भरने लगा,
    मोना भी लण्ड के माल की गर्मी सह न पाई और उस ने अपने हाथो से शर्मा जी को जकड़ लिया अपने
    और अपने पेरो से शर्मा जी को अपने अंदर दवाने लगी, और अपनी चूत के माल को लण्ड के माल से मिलाने लगी ,
    दोनों लोगो की काम अग्नि को लण्ड और चूत से निकलती काम रास की फुहारों ने बुझा दिया था दोनों लोग आखे बंद किये एक दूसरे को जकड़े सोफे पर पड़े लम्बी लम्बी सांसे ले रहे थे.
     
  7. sexstories

    sexstories Administrator Staff Member

    होटल के आलीशान कमरे में दिल्ली के बहुत बड़े कारोबारी शर्मा जी अपनी धरम पत्नी के साथ बैठे थे,

    उन के सामने दिल्ली के ही मशहूर डॉक्टर साहब अपनी पत्नी के साथ बैठे थे ,
    और एक तीसरा जोड़ा बैठा था दिल्ली का एक बहुत बड़ा मादरचोद एक लोहा लंगड़ बीनने बाला चूचे कबाड़ी और उस के पास बैठी थी बहुत बड़ी समाजसेबिका मोना जी जो असल में 200 रूपर में सरकारी पिशाब घरो में चुदने वाली रंडी थी और नालियां साफ़ करने वाली भंगिन थी,

    सभी लोग नंगे बैठे थे और सब के हाथो में शराब से भरे जाम थे टेबल पर तरह तरह के खाने की चीजे रखी हुए थी,

    सभी लोगो के चेहरे वासना की आग और शराब के नशे में तप रहे थे,

    चलो भाई पीना खाना हो गया अब मस्ती शुरू की जाये,शर्मा जी नशे में लड़खड़ाती आबाज में बोले,

    हां हां शुरू करो चलो सब बेड पर ,डॉक्टर साहब लण्ड मरोड़ कर बोले,
    डॉक्टर साहब का लण्ड तो कब से फाड् फाड़ा रहा था,

    सब लोग बेड पर पहुंच गए,
    चूचे ने डॉक्टर साहब की पत्नी के मांसल बदन को अपनी बाहों में भर लिया और अपने कबाड़ी होठो को डॉक्टर साहब की पत्नी मीना के गुलाबी लबो पर रख दिया,
    मीना ने भी अपने लबो को खोल कर चूचे के होठो को चूम लिया,

    डॉक्टर साहब ने शर्मा जी की पत्नी नूरी के दूधो को अपने मुँह में भर कर पीना शुरू कर दिया,

    शर्मा जी भी मोना भंगिन की 200 रूपए में चुदने बाली चूत में मुँह घुसा के उस में से बहते भिखारियों मजदूरों के लण्ड के माल को चाटने लगे,

    चूचे मीना के लबो को पीता अपने हाथो से उस की छातियों को मसलता जा रहा था,
    मीना चूचे के जवान हाथो को अपनी छाती पर महसूस कर उस के होठो को अपने लबो में दवा कर चूसने लगी,

    शराब के नशे में वासना का नशा घुलने लगा,सभी लोग मस्ती की खुमारी में डूबे एक दूसरे की पत्नियों के साथ वासना के मज़े लिए जा रहे थे ,कमरे में कामुक सिसकारियां गूंज रही थी,

    डॉक्टर साहब में अपना लण्ड नूरी के मुँह में पेल दिया और उस की चूचियों को बेदर्दी से मसलने लगे,
    नूरी भी अपना पूरा मुँह खोल कर डॉक्टर साहब की लण्ड को मज़े से चूसने लगी,

    शर्मा जी और मोना 69 हो गए थे मोना शर्मा जी की लण्ड को बड़े प्यार से चूस रही थी और शर्मा जी भी मोना की रसीली चूत को पीते जा रहा थे,

    चूचे मीना की छाती पर बैठ गया और अपना लण्ड मीना के लबो पर रख दिया मीना ने अपना मुँह खोल कर लण्ड का सूपड़ा अपने मुँह में भर लिया, मीना की खुरदुरी जीव लण्ड के सुपडे को चाटने लगी, पिशाब के छेद को कुरेदने लगी ,चूचे अपनी गांड को मीना की मदमस्त चूचियों पर रगड़ने लगा और अपने लण्ड को मीना के खूबसूरत मुँह में ठेलने लगा ,

    मोना ने शर्मा जी को घोडा बना दिया और अपने मुँह को उन की बालो भरे गांड के छेद पर रख दिया और हाथ से उन का लण्ड पकड़ कर गांड का छेद चाटने लगी ,शर्मा जी अपनी गांड पर मोना की नुकीली जीव और जलती सांसो को महसूस कर सिसकार पड़े,मोना उन की गांड के छेद को अपने मुँह में भर जीव को अंदर ठेलने लगी और अपने हाथ से उन का लण्ड आगे पीछे करने लगी,

    डॉक्टर साहब नूरी की चूत को खोल कर अपनी जीव फेर फेर कर चूत से निकलता पानी चाटने लगे ,
    नूरी भी मस्ती में अपनी चूचिया मसल मसल कर चूत में से मस्ती का पानी छोड़ने लगी,

    चूचे घूम कर मीना के मुँह पर बैठ गया और अपनी गांड को मीना के मुँह पर रख दिया मीना भी गांड से निकलती तीखी गंध को सूघ कर बेसुध हो गई और उसने अपने मुँह को खोल कर चूचे की गांड को अपने मुँह में भर लिया, चूचे की गांड के बड़े बड़े बाल भी उस के मुँह में भर गए मीना जोर जोर से गांड चूसने लगी,
    और चूचे अपनी गांड को मीना के मुँह में दवा के उस के निपालो को मसलने लगा,

    तीनो जोड़े काम की आग में जलते एक दूसरे को भोगे जा रहे थे उन के जलते जिस्मो से निकलती आग और गरम सांसो से कमरे का माहौल गर्म हो गया था, उन को देख कर लग रहा था मनो कमरे में कोई ग्रुप सेक्स की प्रोन मूवी की सूटिंग चल रही हो,

    डॉक्टर साहब नूरी पर चढ़ गए थे और उन का लण्ड नूरी की चूत की गहराइयों में चला गया था वो नूरी की बोबों को दबा दबा कर उस की चूत में लण्ड पेले जा रहे थे,

    शर्मा जी भी मोना पर चढ़ कर उस के लबो को पीते पीते मोना भंगिन की रंडी चूत को चोदे जा रहे थे ,
    मोना अपनी जाँघे खोले शर्मा जी के लण्ड को अपनी चूत में झेले जा रही थी ,
    वो अपनी जीव को शर्मा जी की मुँह में डाल कर उन की जीव से टकरा रही थी ,

    चूचे ने मीना को कुतिया बना दिया था और अपने लण्ड को उस की कमसिन गांड में डाल दिया वो मीना की चूचियों को निचोड़ निचोड़ कर उस की गांड मरने लगा,मीना मस्ती में सिसकारती अपनी गांड को चूचे के लण्ड पर दबाने लगी चूचे भी जोर जोर से मीना की गांड में लण्ड पेले जा रहा था ,

    एक करोड़पति कारोबारी एक फेमस डॉक्टर अपनी अपनी खानदानी शरीफ बीबियो के साथ एक दो कोड़ी के कबाड़ी और भिखमंगो मजदूरो से घूरे पर चुदने बाली रंडी को सरीफ इज्जतदार इंजीनयर कपल समझ कर कपल स्वपिंग कर रहे थे ,

    वासना की आग ने शर्मा जी के 45 साल के अनुभब और चतुराई पर पानी फेर दिया था,
    वासना की आग में जल कर वो जीवन मूल्यों को अपनी और पत्नी की गरिमा को, पवित्र अग्नि को साक्षी मान कर लिए अपनी शादी के सात बचनों को,पुरखो के सदियों पुराने नाम को,अपने परिवार की सामाजिक प्रतिष्ठा को,धर्म के आदर्श बिचारो को,समाज की मान्यताओं को सब को भुला बैठे थे ,

    वासना का भ्रमजाल अच्छे भले इंसान को भृमित कर देता हे 200 रूपए में हासिल हो जाने बाली औरत के लिए 200 करोड़ से भी ज्यादा की गुडबिल दाओ पर लगाई जा रही थी,
    परिबार की अच्छी भली संस्कारी औरतो को बेस्या बनाया जा रहा था,

    धरम गुरुओ के गले चिल्ला चिल्ला कर बैठ गए किताबे आँसू बहाने लगी,
    हजारो सालो से यह सब मिलकर यही तो समझा रहे हे,खुद पर सयम रखो सयम रखना सीखो,
    किसी बस्तु की अति मत करो संतुलित एबं शांत जीबन जियो,
    पराई इस्त्री को गलत नजर से देखना हर धरम जाती एबं समाज में निषेध हे,
    हमेसा जब भी कोई नया नशा नई बुराई उत्पन्न होती हे समाज का 2 % उच्च वर्ग उस को अपनाता हे,
    और कुछ ही समय में वो नशा बो बुराई समाज के सबसे बड़े तबके जिन की संख्या 80 % हे मध्यम वर्ग तक पहुंच कर पूरे समाज को अपनी गिरफ्त में लेलेती है,

    डॉक्टर साहब पूरा दम लगा के नूरी की चूत में लण्ड पेले जा रहे थे, उन का लण्ड नूरी की चूत की रगड़ से जला जा रहा था, वो नूरी की उरोजों को मसल मसल कर अपने लण्ड की टोकरे उस की बच्चेदानी पर मरे जा रहे थे ,
    उन की अंदर भरा काम का लाबा उफनने लगा उन की झटको की रफ़्तार बाद गई, वो नूरी पर गिर पड़े उन्होंने जोर से नूरी को जकड़ लिया और उन की लण्ड से गरम माल की पिचकारियां नूरी की जलती चूत में छूट पड़ी,
    नूरी भी लण्ड के माल की गर्मी से जल गई और उस की चूत फट पड़ी उस से काम रास बह पड़ा,
    दोनों ने अपनी बहो में एक दूसरे को कस लिया और एक दूसरे के जननांगो पर काम रस छोड़ने लगे,

    शर्मा जी मोना को अपने बदन से दबाये उस की चूत में झटके मार मार कर अपना लण्ड पेले जा रहे थे,
    मोना भी उन के चूतड़ों को मसल रही थी, उस की पूरी जीव मुँह से बहार निकली थी जैसे शर्मा जी मुँह में दवा कर उस की चूत मरे जा रहे थे,दोनों लोग जोरदार तरीके से चुदाई कर रहे थे,शर्मा जी मोना की रंडी चूत में लण्ड पेल कर मस्ती भरी सिसकारियां ले रहे थे ,उस की अंदर माधोसी छाती जा रही थी,
    अपनी पत्नी को गैर मर्द से चुदते देख उन को बहुत मज़ा आ रहा था, डॉक्टर साहब को अपनी धरम पत्नी की चूत में माल छोड़ते देख उन का लण्ड फूल गया, वो जोर जोर से मोना भंगिन की चूत में लण्ड पेलने लगे अपनी पत्नी की बच्चेदानी में गैर मर्द की लण्ड की माल की कलपना कर ते ही वो चीख पड़े और मोना की चूचियों को दबोच कर अपने लण्ड का वीर्य मोना की चूत में छोड़ने लगे, वो मोना की चूत में पूरा लण्ड डाल कर उस की चूत को अपने खानदानी वीर्य से भरने लगे ,
    मोना भी उन की वीर्य की गर्मी पके पिघल गई और चूतड़ उछाल उछाल कर अपनी चूत से चूत रस छोड़ने लगी दोनों आखे बंद किये मस्ती में डूबे एक दूसरे में समां गए ,

    अपने पति को अपने बगल में दूसरी औरत की साथ सम्भोग करता देख कर मीना की अंदर वासना का तूफान उमड़ रहा था, चूचे का तगड़ा जबान लण्ड उस की गांड की गहराइयों में जाके उस का मज़ा डबल कर रहा था,
    वो अपने हाथ से अपनी चूत मसल रही थी, उस की चूत से काम रस बहे जा रहा था, वो अपने पति को दूसरी औरत की चूत में लण्ड का माल छोड़ते देख बाबरी हो रही थी, की तभी उस की गांड में हलचल मच गई चूचे की लण्ड ने बरसती लण्ड के माल की गरम फुहारों ने उसे चीखने पर मजबूर कर दिया, उस की अंदर काम की शोले भड़क उठे और उस की चूत से पानी छूट पड़ा वो सिसकारियां ले कर अपनी हथेली पर चूत का माल निकलने लगी ,
    चूचे मीना की चूतड़ पकड़ कर अपने लण्ड को पूरा उस की गांड में पेल कर माल छोड़ने लगा,

    सभी लोग बेड पर लेते गहरी गहरी सांसे लेने लगे,

    टक टक दरवाजा खोलो

    दरबाजा बजने से सब लोग चौक गए

    जल्दी से दरबाजा खोलो नहीं तो हम डुप्लीकेट चाबी से दरबाजा खोल देंगे
    एक कड़क अबाज सुन कर सभी लोग एक दूसरे को देखने लगे ,सब मर्द लोग जल्दी जल्दी कपडे पहनने लगे ,और तीनो औरते अपने कपडे लेकर जल्दी से बाथरूम को भागी,

    कौन हे शर्मा जी ने भी कड़क अबाज में पूछा

    पुलिस

    कमरे में मानो बम्ब फट पड़ा सभी लोग एक दूसरे को देखने लगे,किसी की कुछ समझ नहीं आया के क्या करे,

    बाथरूम में छुपी औरतो की आखो के आगे अंधेरा छा गया,
    उन को रोज में टीवी पर चलने बाली खबरे याद आ गई हत्कड़ियो में बधे मुँह को रुमाल से छुपाये चली जा रही रंडियो और चारो तरफ फोटो खींचते मिडिया और हजारो लोग,
    उन का जिस्म कपने लगा पसीना बहने लगा,
    नूरी को अपनी बहुये और नानी पोते याद आने लगे ,पोते कैसे कहेगे देखो देखो टीवी पर दादी माँ दिख रही हे,
    दिन भर माँ जी माँ जी कह कर पैर पड़ती बहुये क्या सोचेगी,

    मीना की गांड फट रही थी, हमेसा सर उठा कर चलने वाली डॉक्टर साहब की पत्नी एक रंडी की तरह पुलिस की गाड़ी में बैठी चली जा रही हे,जबान होते बेटा बेटी से कैसे नजरे मिलायेगी,जो नौकर दिन भर उस की सामने सर झुकाये खड़े रहते हे वो क्या सोचेगे,

    मोना रंडी को पिछली बार की मार याद आ गई उस काली चुड़ैल जैसी पुलिसवाली ने उस की गांड में डंडा घुसके कहा था की अभी तो जरा सा डंडा गांड में घुसाया हे अगर फिर कभी धंधा करते पकड़ी गई तो पूरा डंडा गांड में गुसा दूगी,

    तुम दरबाजा खोल रहे हो की हम खोले,फिर से पुलिस बाले की कड़क आवाज कमरे में गूंज उठी,

    तीनो ने एक दूसरे को देखा और आखो है आखो में बात हुए डॉक्टर साहब और चूचे सोफे पर जाके बैठ गए ,शर्मा जी बोले,
    रुको खोल रहा हु ना,

    शर्मा जी ने दरवाजा खोला,

    सामने इलाके का थानेदार हाकिम सिंह खड़ा था उस की साथ हबलदार तूफान सिंह था,
    थानेदार हाकिम सिंह बहुत ही ईमानदार और रहम दिल पुलिस वाला था,

    किसी ने खबर की थी की होटल में जिस्म फरोसी होती हे इस लिए होटल पर पुलिस का छापा पड़ा था,

    थानेदार हाकिम सिंह और हबलदार तूफान सिंह कमरे में आ गए,

    चलो सब अपने अपने आधार कार्ड निकालो,

    तीनो ने अपने आधार कार्ड दे दिए,

    शर्मा जी आप तो शायद वो शर्मा जी हो जेन की बहुत सरे गोल्ड के शोरूम हे,

    जी सर में बही शर्मा हु,

    और डॉक्टर साहब आप तो बहुत फेमस डॉक्टर हो आप को भी में जनता हु,

    अबे तू कौन हे चुन्नी लाल उर्फ़ चूचे,

    चूचे सकपका गया,

    में इंजीनयर हु

    फाटक फटाक

    हबलदार तूफान सिंह ने दो लाते चूचे की गांड पर मारी और चूचे अपनी गांड पकडे चिल्ला उठा,

    मादरचोद चूचे कबाड़ी साले दिन भर नालियों से घूरो से टुटा फूटा लोहा रद्दी खाली बोलते बीनने बाला कबाड़ी तू कब से इंजिनियर बन गया,साले भूल गया पिछले महीने जब जुआ खेलते पकड़ा था तो कैसे रो रहा था,

    हबलदार तूफान सिंह की बात सुन कर चूचे की गांड तो फट ही गई थी लेकिन उन की भी ज्यादा शर्मा जी और डॉक्टर साहब की गांड फट गई थी ,वो आँखे फाडे चूचे कबाड़ी को देखे जा रहे थे,

    और हबलदार तूफान सिंह की बात सुन मीना और नूरी की ऊपर घडो पानी गिर गया था वो मुँह खोले एक दूसरे को देखे जा रही थी,उन्हें अपने जिस्मो से घिन आने लगी थी बेचारी सीधी सादी भारतीय नारी स्वैपिंग करने चली थी बेचारी इंजिनियर की चक्कर में कबाड़ी से गांड मारा बैठी थी,
    वो जलती आखो से मोना को घूरने लगी,मोना बेचारी सुकड़ कर सर झुका कर कोने में बैठ गई,

    अरे सर यह देखो

    सब लोग हबलदार तूफान सिंह की तरफ देकने लगे,

    हबलदार तूफान सिंह की हाथ में दो ब्रा और एक पेंटी थी ,

    ब्रा पेंटी देख कर शर्मा जी और डॉक्टर साहब की फटी गांड चार इंच और फट गई वो समझ गए औरते जल्दबाजी में अपनी ब्रा पेंटी उठाना भूल गई, अब बात फसेगी,

    भाई शर्मा जी तो आप लोग भी यहां रंडी चोद रहे थे,
    आप लोग समाज के आधार िस्तम्भ हो,
    आप लोग भी यह करोगे तो आम आदमी तो आप को देख कर और ज्यादा बिगड़ेगा,

    अरे थानेदार साहब आप जरा यहां कोने में आओ यहां बात करते हे,

    क्या बात करते हे शर्मा जी में कोने में बात करने बाला पुलिस बाला नहीं हु,में कानून का सेबक हु दलाल नहीं समझे, तुम ने अपनी अंतर आत्मा बेचदी होगी, लेकिन मेरी अंतर आत्मा अभी जिन्दा हे,इस लिए चुपचाप थाने चलो बाकि बातें बही होगी मीडिया के सामने,

    थानेदार हाकिम सिंह की बात सुन कर शर्मा जी और डॉक्टर सहाब थर थर कापने लगे उन की बदन से पसीना बहने लगा उन की आखो में आँसू आ गए,

    डॉक्टर साहब ने थानेदार हाकिम सिंह की पैर पकड़ लिए,

    सर हम किसी रंडी की साथ मस्ती नहीं कर रहे थे हम लोग तो अपनी पत्नियों के साथ पार्टी कर रहे थे,

    पत्नियों की साथ पार्टी कर रहे थे ?डॉक्टर साहब मज़ाक मत करो में तुम को बच्चा नजर आता हु, में थानेदार हाकिम सिंह हु, ज्यादा मुँह चोदे की तो गांड में डंडा डाल के सारी डॉक्टर्री निकल दुगा,

    नहीं सर डॉक्टर साहब सच कह रहे हे आप खुद चेक कर लो ,मीना नूरी बहार आ जाओ शर्मा जी की बात सुन कर तीनो औरते बहार आ गई,

    थानेदार हाकिम सिंह उन के आधार कार्ड चेक करने लगा,

    अरे हा यह तो सच में आप लोगो की पत्निया हे,
    मुझे माफ़ करे शर्मा जी मुझ से गलती हो गई,बेचारा सीधा साधा थानेदार हाकिम सिंह शर्मिदा होने लगा,

    अरे सर यह तो और भी बड़ा गड़बड़ घोटाला लगता हे,

    सब लोग हबलदार तूफान सिंह की तरफ देखने लगे,

    सर इस को जानते हो आप ?
    यह साली मोना भंगिन सरकारी पेशाब घरो में भिकमंगो से 200 रूपए में चुदने वाली रंडी हे,
    यह रंडी और चूचे कबाड़ी की पुरानी आशिकी है यह दोनों इन की साथ क्या कर रहे हे,

    हबलदार तूफान सिंह की बात सुन कर शर्मा जी के कान फट गए,
    उन की आखो के सामने मोना के साथ की गई सारी मुलाकातों की पिक्चर चलने लगी,वो बेचारे बहुत ही ज्यादा
    शर्मिंदा हो गए वो फूट फूट कर रोने लगे,

    नूरी की आखो से भी आसुओ की बारिस होने लगी,

    बेचारे डॉक्टर साहब और उन की पत्नी मीना भी आँसू बहाने लगे,

    चूचे और मोना भी शर्म से आखे झुकाये खड़े थे,

    थानेदार हाकिम सिंह और हबलदार तूफान सिंह एक दूसरे को देख रहे थे इन इज्जतदार लोगो का रोना उन की समझ में नहीं आ रहा था,उन की दिल पिघलने लगे,थानेदार हाकिम सिंह बोला
    अरे आप लोग रोना बंद करो में आप लोगो को छोड दुगा में नहीं चाहता की आप जैसे समाज के आधार ेस्तम्भों को गलत काम करता देख कर आम लोग भी इस गलत रस्ते पर चल पड़े,
    लेकिन पहले आप मुझे सारी बात बताओ की यह सब हो क्या रहा था और आप को कसम खानी होगी की आप लोग दुबारा ऐसा गलत काम नहीं करोगे,

    थानेदार हाकिम सिंह की बात सुनकर शर्मा जी शुरू से सारी कहानी सुनाने लगे,

    वो सुना रहे थे वाइफ स्वैपिंग की काली दुनिया की काली कहानी, पति पत्नी के पवित्र रिश्ते को वासना की आग में जलाने की कहानी,सदियों पुरानी सामाजिक परम्पराओ को मार कर उन की अर्थी उठाने की कहानी,
    हमारी सारी दुनिया से निराली भारतीय सभ्यता के नैतिक मूल्यों को वासना के पैरों से कुचलने की कहानी

    हबलदार तूफान सिंह जीप चला रहा था और थानेदार हाकिम सिंह बगल में बैठा था,

    भाई तूफान सिंह तूने कभी किया हे वाइफ स्वैप,

    हा हा हा हा आप भी साहेब बहुत मज़ाक करते हो हम ठहरे गरीब आदमी यह तो बड़े लोगो का काम हे,

    हा हा हा हा आज तक हजारो लोग देखे जो अपनी पत्नी को किसी और की साथ चुदता देखते है तो उन का मर्डर कर देते हे,लेकिन यह लोग तो अपनी लुगाइयों को खुद चुदवा रहे हे,


    भाई तूफान सिंह आज तू पूछना अपनी लुगाई से की वो यह खेल खेलना चाहेगी,

    साहेब आप की क्या दुश्मनी हे मेरे से,जरा जरा बात पर तो बेलन मरने लगती हे अगर मेने उस से यह पूछा तो वो मुझ को जिन्दा नहीं छोड़ेगी,में बोला ना साहेब बड़े लोग बड़ी बातें,
    हम गरीब तो इस दुनिया में बस अपने बच्चो के पेट भर ले हमारे लिए तो यही काफी हे.

    हा हा हा हा क्या मस्त खेल हे भाई "मेरी लुगाई तेरी लुगाई तेरी लुगाई मेरी लुगाई" हा हा हा हा
     
Loading...